citizenship amendment bill 2019 CAB
हिंदी समाचार

नागरिकता संशोधन बिल (CAB) क्या है? (What Is Citizenship Amendment Bill 2019 In Hindi?)

Citizenship Amendment Bill 2019: देश की संसद में भारतीय नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill – CAB) पास होने के बाद से ही देश में काफी तनाव का माहौल चल रहा है। जहां कुछ लोग इसके समर्थन में नजर आ रहे हैं तो वहीं कुछ लोग ऐसे भी है जो इसका विरोध कर रहे हैं। तो आखिर नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill – CAB) क्या है?

अपनी जांच के चलते हमने पाया कि ज्यादातर लोग जो चाहे इसके समर्थन करते हों या विरोध उन्होंने इस बिल को पढ़ा ही नहीं है। हालांकि इसके कुछ महत्वपूर्ण मुद्दे सभी को पता हैं। तो आइए जानते हैं CAB को आसान शब्दों में।

नागरिकता संशोधन बिल (CAB) क्या है? (What Is Citizenship Amendment Bill In Hindi?)

दरअसल नागरिकता संशोधन बिल (CAB) के द्वारा पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश से धार्मिक उत्पीड़न के कारण भागकर आए शरणार्थियों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। इन शरणार्थियों में कुछ विशेष समुदायों को शामिल किया गया है, जैसे कि, हिंदू, ईसाई, सिख, पारसी, जैन और बौद्ध। तो यदि इन समुदायों से कोई शरणार्थी 31 दिसंबर 2014 या उससे पहले भारत में रह रहा है तो वह भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन कर सकता है। मुस्लिम समुदाय को नागरिकता संशोधन बिल से बाहर रखा गया है।

वर्तमान में कानून के तहत भारतीय नागरिकता भारत में पैदा होने वाले लोगों को दी जाती है। या फिर यदि कोई व्यक्ति देश में 11 वर्षों से रह रहा हो तो वह भी भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन कर सकता है। CAB में इस बात का ख्याल रखा गया है कि यदि आवेदक पर पहले से देश में अवैध तरीके से रहने को लेकर किसी तरह की कोई कानूनी कार्रवाई चल रही है तो भी यह स्थायी नागरिकता के लिए उनकी पात्रता को प्रभावित नहीं करेगी।

इसके अलावा भारतीय प्रवासी नागरिक (Overseas Citizen of India – OCI) अगर किसी भी तरह से नागरिकता कानून या किसी अन्य कानून का उल्लंघन करते हैं तो उनका ओसीआई कार्ड रद्द करने का अधिकार केंद्र को होगा।

पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों को इस कानून से बाहर रखा गया है। वह राज्य इस प्रकार हैं; असम, मेघालय, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड और मिजोरम।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) क्या है? (What Is Citizenship Amendment Act 2019 In Hindi?)

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) कुछ और नहीं बल्कि नागरिकता संशोधन बिल के संसद में पास होने के बाद बना कानून है। आसान शब्दों में समझें तो जब नागरिकता संशोधन इस प्रस्ताव को भारतीय जनता पार्टी द्वारा संसद में रखा गया था तब तक यह एक बिल था जो Citizenship Amendment Bill के नाम से जाना जाता था। संसद में और माननीय राष्ट्रपती जी द्वारा इसे मान्यता मिलने के बाद यह एक कानून बन गया है जिसे अब Citizenship Amendment Act के नाम से जाना जाता है।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) का देश पर क्या असर होगा?

कोई भी देश वहां के रहने वाले लोगों से बनता है। कल इसका क्या असर होगा यह तो कोई नहीं जानता। लेकिन आज देश में इस कानून को लेकर मिली जुली प्रतिक्रिया देखने को मिल रही हैं। हमारा यह मंच हर प्रतिक्रिया और सोच का सम्मान करता है। आपकी इस कानून को लेकर क्या राय है हमें कमेंट कर बताएं।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *